राम राम बोलो

शक्ति स्वरूप हनुमानजी हुँकार उठे - जय श्री राम ! एक छलाँग में ही वे सागर पार कर गये । लंका में सीताजी की खोज करते समय उन्होंने एक सुंदर मन्दिर देखा जिसपर राम नाम अंकित था । जहाँ राम धुन गूँज रही थी । राम राम राम !


राम राम, राम राम, 
राम राम, राम राम, 
राम राम बोलो |

राम राम, राम राम, 
राम राम बोलो |

राम राम, राम राम |


राम सुमिर पल भर में 
भव के बंध खोलो |
राम राम, राम राम, 
राम राम, राम राम, 
राम राम बोलो | 
राम राम, राम राम |

भाई नाहिं बन्धु नाहिं ,
अपनो कोई मीत नाहिं |
लंक कीच बीच परो ,
राम तेरो चेरो ,
राम तेरो चेरो |


राम राम, राम राम, 
राम राम, राम राम, 
राम राम बोलो | 

विभीषण की सहायता से, हनुमानजी ने माँ सीता के दर्शन किये । उन्हें श्री राम का संदेश दिया, उनका धीरज बँधाया |


MP3 Audio


© श्री राम गीत गुंजन

Shri Ram Geet Gunjan
ramgeetgunjan.blogspot.com

No comments: