दूलह राम, सीय दुलही री

मंगल गान और नगाड़ों की ध्वनि से सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड गूँज उठा । दूल्हा राम और दुल्हन जानकी की अनुपम छवि देखकर सभी देवतागण पुलकित हो उठे ।

दूलह राम, सीय दुलही री ।

घन दामिनि बर बरन हरन मन ।
सुन्दरता नख सिख निबही री ॥

तुलसीदास जोरी देखत सुख ।
सोभा अतुल न जात कही री ॥

रूप रासि विरचि बिरंचि मनु ।
सिला लमनि रति काम लही री ॥



© श्री राम गीत गुंजन

Shri Ram Geet Gunjan
ramgeetgunjan.blogspot.com

No comments: