आज मुझे रघुवर की सुधि आई

श्री राम के राज्याभिषेक की तैयारियाँ होने लगीं । देवलोक में चिन्ता की लहर दौड़ गयी । राक्षसों का संहार कैसे होगा ?

कुचक्र रचा गया । माँ कैकेयी की इच्छा और पिता के वचन की रक्षा के लिये श्री राम ने चौदह वर्ष का वनवास स्वीकार किया ।

अयोध्या अनाथ हो गयी ।


आज मुझे रघुवर की सुधि आई ।

आगे आगे राम चलत हैं ।
पीछे लछमन भाई ।
तिनके पीछे चलत जानकी ।
बिपत कही ना जाई ॥

सीया बिना मोरी सूनी रसोई ।
लछमन बिन ठकुराई ।
राम बिना मोरी सूनी अयोध्या ।
महल उदासी छाई ॥



© श्री राम गीत गुंजन

Shri Ram Geet Gunjan
ramgeetgunjan.blogspot.com

No comments: