पात भरी सहरी

वनवासी राम, लखन और जानकी शृन्गवेरपुर पहुँचे । गंगा पार करने के लिये श्री राम ने केवट से नाव माँगी । प्रेम विव्हल होकर केवट बोला, हे नाथ, मेरी नैया तो काठ की है, कहीं अहल्या के समान ये भी तर गयी तो ...

पात भरी सहरी, सकल सुत बारे-बारे,
केवट की जाति, कछु बेद न पढ़ाइहौं ।

सबू परिवारु मेरो याहि लागि, राजा जू,
हौं दीन बित्तहीन, कैसें दूसरी गढ़ाइहौं ॥

गौतम की घरनी ज्यों तरनी तरैगी मेरी,
प्रभुसों निषादु ह्वै कै बादु ना बढ़ाइहौं ।

तुलसी के ईस राम, रावरे सों साँची कहौं,
बिना पग धोँएँ नाथ, नाव ना चढ़ाइहौं ॥



© श्री राम गीत गुंजन

Shri Ram Geet Gunjan
ramgeetgunjan.blogspot.com

No comments: