पार्ट 1

हरि अनन्त हरि कथा अनन्ता
कहहिं सुनहिं बहु विधि सब सन्ता

जब जब होइ धरम कै हानी
बाढ़इ असुर अधम अभिमानी

तब तब प्रभु धरि बिबिध सरीरा
हरहिं कृपानिधि सज्जन पीरा

जब जब पृथ्वी पर अधर्म फैला, मानवता भटक गयी, तब तब धरती के उद्धार और लोक कल्याण के लिये ईश्वरीय शक्ति प्रगट हुई । त्रेता युग के अवतार श्री राम का जीवन ऋषि, मुनियों और जन साधारण को सदा से प्रेरणा देता आ रहा है, मार्गदर्शन करता आ रहा है ।



© श्री राम गीत गुंजन

Shri Ram Geet Gunjan
ramgeetgunjan.blogspot.com

No comments: